In Pursuit Of Something Else | Part I

NaPoWriMo #1

कुछ बन जाते हैं

अबूतर कबूतर | उदय प्रकाश

 

तुम मिसरी की डली बन जाओ
मैं दूध बन जाता हूँ
तुम मुझ में
घुल जाओ

तुम ढ़ाई साल की बच्ची बन जाओ
मैं मिसरी घुला दूध हूँ मीठा
मुझे एक सांस में पी जाओ

अब मैं मैदान हूँ
तुम्हारे सामने दूर तक फ़ैला हुआ
मुझ में दौड़ो , मैं पहाड़ हूँ
मेरे कंधो पर चढ़ो और फ़िसलों

मैं सेमल का पेड़ हूँ
मुझे ज़ोर ज़ोर से झकझोरो और
मेरी रुई को हवा की तमाम परतों में
बादलों के छोटे छोटे टुकड़ों की तरह
उड़  जाने दो

ऐसा करता हूँ की मैं अखरोट बन जाता हूँ
तुम उसे चुरा लो
और किसी कोने में छिपकर
चुप चाप उसे  तोड़ो


 

In Pursuit of Something Else

Abootar Kabootar | Uday Prakash

You be a branch of sugar crystals
I will be milk
Dissolve
into me.

You be the cherub of two years and a half
I will be the milk sweetened by sugar crystals
Drink me
in a single breath.

Now I am a meadow
Spread wide before of you
Run in me, I am a mountain
Scale and slide on my shoulders.

I am a Semal tree
Shake me with all your force and
Let the layered breeze carry away
My cotton flowers
And spread them like fragments from clouds.

Or let me be a walnut
Steal me
Hide me in a corner
And in silence, break me.

 

Advertisements

One thought on “In Pursuit Of Something Else | Part I

Add yours

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Powered by WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: